उत्तर प्रदेश औरैया पंचनद दीप महापर्व पर पंचनद घाट पर चंबल परिवार के सदस्यों ने दीप प्रज्वलित कर आजादी के आंदोलन में क्रांतिकारियों को 151 फिट तिरंगे को दी सलामी। ( पंकज सिंह राणावत की खास रिपोर्ट )

( औरैया पंचनद दीप महापर्व पर पंचनद घाट पर चंबल परिवार के सदस्यों ने दीप प्रज्वलित कर आजादी के आंदोलन में क्रांतिकारियों को 151 फिट तिरंगे को दी सलामी )

उत्तर प्रदेशऔरैया पंचनद धाम में आजादी के बड़े आंदोलन में क्रांतिकारियों और बुद्धिजीवियों की सरजमीन रही चंबल वैली और पंचनद घाटी में चंबल परिवार ने ऐतिहासिक आयोजन कर अपने लड़ाका पुरखों का स्मरण किया,सिंध,पहुंज,क्वांरी, चंबल और यमुना के पवित्र और अनोखे संगम पर पर ‘पंचनद दीप महापर्व’ के तीसरे संस्करण का यादगार आयोजन किया गया। चंबल घाटी के क्रांतियोद्धाओं को 151 फिट राष्ट्रीय झंडा तिंरगे से सलामी दी गई। जिसमें इटावा, जालौन, औरैया, भिन्ड, बाह, ग्वालियर के निवासी बड़े पैमाने पर श्रद्धा सुमन देने पहुंचे। पंचनद दीप महापर्व में अतिथि के तौर पर चंबल घाटी के सरदार भगत सिंह के नाम से सुविख्यात शहीद डॉ. महेश सिंह चौहान के अनुज इतिहासकार देवेन्द्र सिंह चौहान, सामाजिक विचारक और पूर्व आईपीएस अधिकारी चेतराम सिंह भदौरिया, क्रांतिकारी लेखक डॉ. शाह आलम राना, रिटायर्ड डीएसपी हाकिम सिंह यादव रहे। संचालन चंबल पर्यटन नोडल अधिकारी डॉ. कमल कुमार कुशवाहा ने किया। स्वतंत्रता संग्राम में क्रांतिकारियों की शरण स्थली रही महाकालेश्वर धाम से 151 फिट तिरंगे के साथ क्रांतिवीरों को सलामी देने बच्चों, युवाओं, महिलाओं, बड़े-बुजुर्गों का हुजूम उमड़ पड़ा। गगनभेदी नारों के साथ यात्रा आगे बढ़ी। पंचनदा पुल पर भिटौरा-कंजौसा ग्राम प्रधान रेखा देवी के साथ अनेक महिलाओं और उनके पति मनोज सिंह सेंगर रिटायर सूबेदार मेजर ने पुष्प वर्षा कर पदयात्रा का स्वागत किया। मार्च का नेतृत्व चंबल परिवार समन्वयक वरिष्ठ पत्रकार एवं सामाजिक कार्यकर्ता वीरेन्द्र सिंह सेंगर ने किया, जिन्होंने हमेशा से ही चंबल वैली पंचनाथ धाम के लिए लिखकर इसे विश्व स्तर तक पहचान दिलाने का कार्य किया और आज भी इसी कार्य में दिन-प्रतिदिन लगे हुए हैं जिसके कारण आज इस क्षेत्र में तरह-तरह के चंबल परिवार द्वारा आयोजन किए जा रहे हैं जिनमें लोगों की भागीदारी बढ़ रही है उनके अथक प्रयासों से आज यह तिरंगा पदयात्रा जब कंजौसा पुल से आगे बढ़ी तो बाबा साहब मंदिर प्रबंध समिति के पदाधिकारियों ने फूल-मालाओं से तिरंगे और यात्रियों का गर्मजोशी से स्वागत किया इसके बाद पंचनद संगम तट के नजदीक विशाल जलराशि तक पहुंचते पहुंचते कारंवा जनसभा में तब्दील हो गया जहां लोगों ने सभा को संबोधित किया। पंचनद दीप पर्व को संबोधित करते हुए इतिहासकार देवेन्द्र सिंह चौहान ने चंबल अंचल के क्रांतियोद्धा सूबेदार मेजर अमानत अली, राजा निंरजन सिंह चौहान, जंगली व मंगली मेहतर, मारून सिंह लोधी, मंशाराम गुर्जर, रूपचंद पांडेय, तेजाबाई, चुन्नी यादव, बंकट सिंह कुशवाह, राम प्रसाद चौधरी, गेंदालाल दीक्षित, दादा शंभूनाथ आजाद, अर्जुन सिंह भदौरिया आदि जननायकों का जिक्र करते हुए कहा कि अंग्रेजी दासता से मुक्ति की लड़ाई साझा कुर्बानी का संघर्ष रहा है।mचंबल परिवार प्रमुख क्रांतिकारी लेखक डॉ. शाह आलम राना ने पंचनदा तहजीब की वकालत करते हुए कहा कि इटावा, औरैया, जालौन और भिंड जनपद मुख्यालयों से समान दूरी पर पंचनदा है। यहां पर चंबल, यमुना, क्वारी, सिंध और पहुज नदियों का भोगौलिक मिलन के साथ कई संस्कृतियों के महासंगम का गौरवशाली इतिहास की रवायत रही है। डॉ. शाह आलम राना ने जोर देते हुए कहा कि सत्तावनी क्रांति के मस्तिष्क अजीमुल्ला खां ने ‘हम हैं इसके मालिक, हिन्दुस्तान हमारा’ राष्ट्रगीत लिखा था। जिसे पढ़ते हुए लाखों आजादी के मतवालों ने अपना सर्वोच्च बलिदान दिया। यही आजाद भारत में हमारे राष्ट्रीय ग्रंथ भारतीय संविधान की आत्मा बनी। इस दौरान देवेन्द्र सिंह चौहान ने संविधान की उद्देशिका का सामूहिक स्वरपाठ कराते हुए कहा कि पवित्र ग्रंथ भारतीय संविधान की हिफाजत करना हम सभी का फर्ज है। चंबल अंचल के प्रसिद्ध लोकगायक सद्दीक अली ने ‘जो देश पर शहीद हुए थे, सच्चे थे वे हिन्दुस्तानी’ जैसी अपनी कई प्रस्तुतियां देकर मौजूद लोगों की आखें नम कर दी। पंचनद दीप पर्व में आए हुए सभी का धन्यवाद ज्ञापन चंबल परिवार संयोजक चन्द्रोदय सिंह चौहान ने किया। इसके बाद साझे तौर पर सभी ने आजादी के महानायकों की याद में दीपों से पंचनद तट को रोशन किया,वहीं भारतीय जनता पार्टी के संयोजक एवं कद्दावर नेता राम लखन औदिच्च ने इस आयोजन को एक इस क्षे त्र के लिए चंबल परिवार का ऐतिहासिक आयोजन बताते हुए सरकार से इस ओर ध्यान आकृष्ट करने के लिए का तथा हमेशा सहयोग करने के साथ आभार व्यक्त किया।इस अवसर पर सभी संत जन बाबा साहब मंदिर,विजय कुमार द्विवेदी,अवधेश सिंह चौहान, जगदीश सिंह,मुनीम तिवारी, राम सुन्दर यादव, कुलदीप सिंह परिहार, विनोद सिंह गौतम, प्रमोद सिंह सेंगर,ओंमकार सिंह, हरीराम, राम औतार तिवारी, राम सजीवन, चंद्रवीर सिंह चौहान, अनिल पाल, अभिलाख, अनीश खान, हनुमंत, सोनपाल, धर्मेन्द्र सिकरवार, आबिद अली, सुदीप बाथम, प्रमोद वन, बृजेन्द्र सिंह, विजय बहादुर शंखवार, आदिल खान, सुखराम टेलर, प्रधान रामप्रकाश”पडडे”निषाद आदि का उल्लेखनीय सहयोग रहा।

(  पंकज सिंह राणावत की खास रिपोर्ट )

 

Back to top button
error: Content is protected !!